भेड़ाघाट है एक बहुत ही बेहतरीन जगह, जो प्रकृति प्रेमियों के लिए एक अच्छा विकल्प है

मध्य प्रदेश के जबलपुर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भेड़ाघाट प्रकृति प्रेमियों के लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प है। अगर आपको घूमने में रुचि है तो आपको भेड़ाघाट घूमने ज़रूर जाना चाहिए। भेड़ाघाट के पास आपको और भी बहुत सारी जगह घूमने के लिए मिल जाती हैं। भेड़ाघाट का दृश्य आपके मन को मोह लेगा। भेड़ाघाट में आपको मार्बल रॉक्स, चौसठ योगिनी मंदिर, धुआंधार फॉल्स और नौका विहार का आनंद भी मिलता है।

धुआंधार फॉल्स

यहां पर धुआंधार फॉल्स यहां आने वाले पर्यटकों का आकर्षण का मुख्य केंद्र है, को कि नर्मदा नदी से निकला हुआ एक बहुत ही सुंदर जलप्रपात है। लगभग 30 किलोमीटर की ऊंचाई से गिरती हुई नर्मदा नदी की धारा, मानो ऐसा लगता है जैसे धुआं ही धुआं हो। इसीलिए इस वॉटर फॉल का नाम धुआंधार फॉल्स है। और जब इन धाराओं पर सूरज की किरणे पड़ती है तो मानो वहां का नजारा आपके मन को मोह लेता है।

मार्बल रॉक्स

लगभग 100 फीट ऊंची संगमरमर की चट्टानें जो कि नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर खड़ी है। जब सूरज की किरणे इन पत्थरों पर पड़ती हैं तो यहां का नजारा देखने जैसा होता है। इन मार्बल रॉक्स के बीच से नर्मदा नदी जाती है, जहां पर आप नौका का भी आनंद ले सकते हैं।

चौसठ योगिनी मंदिर

जबलपुर का एक ऐतिहासिक मंदिर चौसठ योगिनी मंदिर, जहां पर मां दुर्गा के 64 परिचारको की मूर्तियां हैं। यह मंदिर नर्मदा मंदिर के ऊपर एक पहाड़ पर स्थित है और देवी जी की इन मूर्तियों के बीच भगवान शंकर की भी एक मूर्ति विराजमान हैं।

बैलेंसिंग रॉक्स

यहां आपको पत्थर की एक बड़ी सी गोलाकार चट्टान देखने को मिलती हैं। मानव द्वारा इन चट्टानों का निर्माण नहीं किया गया, बल्कि ये चट्टाने हजारों साल पहले ज्वालामुखी विस्फोट होने के बाद खुद ही बन गई थी। इन चट्टानों का बैलेंस ऐसा बना हुआ है की कोई भी आपदा आ जाए पर इन चट्टानों को कोई असर नहीं होता।