भीड़ भाड़ से दूर प्रकृति की गोद में बसा हिमाचल का यह गांव, जन्नत जैसी है यहाँ की खूबसूरती

किस भी ट्रैवलर के लिए पहाड़ों में होने एक अलग ही अनुभव होता है लेकिन आमतौर पर जब हम कही की यात्रा करते है तो हम किसी फेमस या टूरिस्ट से भरे हिल स्टेशन में चले जाते है।

पहली बार के लिए तो यह काफी अनुभव देता है लेकिन बार बार भीड़ भाड़ वाले जगहों पर जाकर हर किसी का मन बोर होने लगता है, ऐसे में अगर आप इन सब से अलग किसी शांत और बाहर दुनिया से अलग एक अलग हिल स्टेशन की यात्रा करना चाहते है तो यह पोस्ट आपके लिए ही है।

आज के इस पोस्ट में हम हिमाचल प्रदेश के एक गांव के बारे में बात करेंगे जो कसोल के बिलकुल पास ही स्थित है और वहाँ की यात्रा आपके लिए एक लाइफटाइम मेमोरी दे जाएगी। तो चलिए अपनी यात्रा शुरू करते है –

हिमाचल प्रदेश की खबसूरत पार्वती घाटी अपने भीतर कई सारी खूबसूरत जगहों को समेटे हुए हैं, जिन्हें जानने और घूमने के लिए हर पर्यटक को काफी मेहनत करनी होती है। इस घाटी में छुपी हुई इन खास जगहों की बात है, यहां के प्राकृतिक नजारे, जो आज भी ये शहर के कोलाहल से दूर पर्यटकों को खुली स्वच्छ हवा प्रदान करती हैं।

इसी पार्वती घाटी में स्थित कसोल एक प्रसिद्ध लोकप्रिय पर्यटन स्थल, इजारायली पर्यटकों के बीच यह स्थान काफी लोकप्रिय है। कसोल के आसपास कई ऐसे गांव भी है जहाँ आप अपनी छुट्टियां बिता सकते है। लेकिन आज हम बात कर रहे है पार्वती घाटी की गोद में बसे खास गांव ग्रहण के बारे में।

https://www.instagram.com/p/Cs73yv_vDOD/?hl=en

ग्रहण गाँव में 50 घर हैं और इसमें लगभग 350 लोग रहते हैं। इस गाँव में कई खूबसूरत जगहें हैं जो देखने लायक हैं लेकिन यहाँ तक पहुँचना थोड़ा मुश्किल है। ग्रहण गाँव तक पहुँचने के लिए आपको कसोल से ग्रहण गाँव तक का लगभग 8 किलोमीटर लंबा ट्रेक करना पड़ेगा।

यह गांव अपने बेहतरीन मेहमाननवाजी के लिए भी जाना जाता है, गांव में प्रवेश करते हुए आपको जो भी लोग मिलेंगे आपका स्वागत करते हुए नजर आएंगे। इस गांव में आप स्थानीय लोगों के साथ कुछ वक्त बिता सकते है, आसपास के किस्से साझा कर सकते है।

सर्दियों के दौरान इस गांव में भारी मात्र में बर्फबारी होती है, ऐसे में यहां जाने से बचे, और गर्मियों के दिनों में आप इस खूबसूरत जगह की मार्च से लेकर सितम्बर तक कभी भी कर सकते हैं।