दमोह घूमने की जगह। Places to visit in Damoh

यह मध्य प्रदेश के प्रमुख शहरों में से एक है।दमोह भारत के मध्य प्रदेश का एक मुख्य शहर है। यह मध्य प्रदेश में पांचवां सबसे बड़ा शहरी समूह है। राष्ट्रीय राजमार्ग ३४ यहाँ से गुज़रता है। यह जैन तीर्थ स्थल कुंडलपुर में बड़े बाबा मंदिर के लिए जाना जाता है। यह नोहलेश्वर मंदिर, सिंगरामपुर झरना, नोहटा, सिंगरगढ़ किला आदि के लिए भी जाना जाता है।

 

दमोह घूमने की जगह। Places to visit in Damoh


प्राचीन जटा शंकर मंदिर दमोह

यह दमोह में घूमने के लिए सबसे अच्छे धार्मिक स्थलों में से एक है। जटाशंकर मंदिर दमोह शहर का दर्शनीय स्थल है। मंदिर में अन्य देवी देवता की मूर्ति भी विराजमान है। यहां मंदिर शिव शंकर जी को समार्पित है। यह मंदिर पहाडों से घिरा हुआ है। यह मंदिर पहाडों से घिरा हुआ है।

प्राचीन जटा शंकर मंदिर - दमोह
प्राचीन जटा शंकर मंदिर – दमोह

 

रानी दमयंती संग्रहालय

यह किला मुख्य दमोह शहर में स्थित है। रानी दमयंती दमोह जिले के संस्थापक थी। महल के बाहर एक बहुत बड़ा गार्डन भी बना हुआ है। रानी दमयंती दमोह जिले के संस्थापक थी। रानी दमयंती संग्रहालय को रानी दमयंती के किले के नाम से  भी जाना जाता है।

रानी दमयंती संग्रहालय - दमोह
रानी दमयंती संग्रहालय – दमोह

 

बड़ी देवी जी मंदिर

यह मंदिर करीब 300 साल पुराना है। यह दमोह शहर का बहुत पुराना मंदिर है। आपको यहां पर बहुत सारे नारियल बंधे हुए देखने के लिए मिल जाते हैं। इस मंदिर को बड़ी देवी मां के मंदिर के नाम से जाना जाता है। बड़ी देवी मां का मंदिर दमोह के फुटेरा तालाब के पास है। लोग अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए यहां पर नारियल को बंधते हैं। यह दमोह की एक अच्छी जगह है और यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है।

बड़ी देवी जी मंदिर - दमोह
बड़ी देवी जी मंदिर – दमोह

 

राजनगर झील

यह जगह बहुत खूबसूरत है। झील के पास आपको एक मंदिर भी देखने के मिलता है, जो मां दुर्गा को समर्पित है। राजनगर झील से दमोह जिले में पीने के पानी की सप्लाई की जाती है। आप यहां पर बरसात के समय आते हैं, तो आपको यहां पर झील का अद्भुत दृश्य देखने के लिए मिलता है।

राजनगर झील - दमोह
राजनगर झील – दमोह

 

नोहलेश्वर शिव मंदिर

मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में आपको मंडप और गर्भ ग्रह देखने के लिए मिलता है। गर्भ ग्रह में शिव जी का पत्थर का शिवलिंग विराजमान है। नोहलेश्वर मंदिर दमोह जिले से करीब 20 किलोमीटर दूर है। इस मंदिर की दीवारों में आपको खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है।

नोहलेश्वर शिव मंदिर - दमोह
नोहलेश्वर शिव मंदिर – दमोह

 

सिंगौरगढ़ का किला

के चारों तरफ आपको जंगल का खूबसूरत दृश्य देखने के लिए मिलता है। सिंगौरगढ़ का किला दमोह जिले के रानी दुर्गावती अभ्यारण के अंदर स्थित है। यह किला अब खंडहर अवस्था में है। किले के बारे में कहा जाता है कि यहां पर रानी दुर्गावती अपने विवाह के पश्चात रहती थी और  किले के नीचे स्थित तालाब पर रानी दुर्गावती स्नान किया करती थी। और यहां पर आपको कुछ प्राचीन प्रतिमाएं भी देखने के लिए मिलेगी।

सिंगौरगढ़ का किला - दमोह
सिंगौरगढ़ का किला – दमोह

गिरिदर्शन वाच टावर

यहां पर आपको पहाड़ों का, झील का और जंगल का दृश्य देखने के लिए मिलता है। गिरी दर्शन टावर रानी दुर्गावती अभ्यारण्य के अंदर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए और पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। गिरी दर्शन वॉच टावर जबलपुर दमोह हाईवे रोड पर स्थित है। यहां से चारों तरफ हरियाली रहती है। यह दमोह शहर की बहुत खूबसूरत जगह है और प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर है।

 

रानी दुर्गावती वन्यजीव अभयारण्य

इस अभ्यारण्य का नाम रानी दुर्गावती के नाम पर रखा गया है। वीरांगना दुर्गावती वन्यजीव अभयारण्य दमोह जिले का एक मुख्य आकर्षण है। यह अभ्यारण्य 24 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला है। दुर्गावती अभ्यारण्य की सैर करने के लिए दो रास्ते हैं, यह दोनों रास्ते कच्चे हैं। यहां पर आपको देखने के लिए नदी, पहाड और जंगल मिलती है।

रानी दुर्गावती वन्यजीव अभयारण्य - दमोह
रानी दुर्गावती वन्यजीव अभयारण्य – दमोह

जोगन कुंड

झरने के पास एक प्राचीन मंदिर है। जोगन कुंड दमोह शहर का एक लोकप्रिय दर्शनीय स्थल है। जोगन कुंड झरने में आप जब बरसात के समय आते हैं, तो आपको यहां पर पानी देखने के लिए मिलता है। जो जंगल के बीच में स्थित है। झरने का पानी एक कुंड पर गिरता है। जोगन कुंड दमोह जिले के जबेरा तहसील में स्थित है।

जोगन कुंड - दमोह
जोगन कुंड – दमोह

 

नजारा व्यू पॉइंट

यहां से पूरी रानी दुर्गावती वन्य जीव अभ्यारण्य का दृश्य देखने के लिए मिलता है। नजारा व्यू प्वाइंट दमोह जिले का एक खूबसूरत दर्शनीय स्थल है। यहां से बहुत ही मनोरम दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में स्थित है।यह व्यूप्वाइंट भैसा घाट में स्थित है। यहां से बहुत ही मनोरम दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां से देखने में ऐसा लगता है, कि जैसे आप कश्मीर की वादियों देख रहे हैं।

नजारा व्यू पॉइंट - दमोह
नजारा व्यू पॉइंट – दमोह

 

कुण्डलपुर

कुंडलपुर दमोह जिले से करीब 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कुंडलपुर दमोह जिले का एक जैन तीर्थ स्थल है। कुंडलपुर में 65 मंदिर हैं। यहां पर आपको 63 जैन मंदिर देखने के लिए मिलेंगे, जो पहाड़ी पर बने हुए हैं। मंदिरों में बड़े बाबा का मंदिर सबसे प्रसिद्ध है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इसके अलावा यहां पर आपको एक अन्य मंदिर भी देखने के लिए मिलता है।

कुण्डलपुर - दमोह
कुण्डलपुर – दमोह

दी गयी जानकारी यदि आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करने ।