भारत में ट्रेकिंग के लिए मशहूर हैं ये 5 ट्रेक, आप भी हैं शौकीन तो एक बार जरूर जाएं

पहाड़ों पर चढ़ाई करने का शौक रखने वाले बॉबी मैथ्यू और जोश मैडिगन नाम से भली भाति परिचित होंगे। और अगर आपको इनकी कहानी का पता नहीं है तो चलिए पहले कहानी जानते है फिर जानेंगे आखिर जानिए भारत के 5 मशहूर ट्रेक कौन कौन से है जहाँ आपको एक बार जरूर जाना चाहिए।

बॉबी मैथ्यू और जोश मैडिगन नाम के दो मित्र प्रकृति के बेहद करीब थे, दोनों ने मेरिका के न्यूयॉर्क में एडिरोंडैक पर्वत नाम के पहाड़ की 46 ऊंची चोटियों पर चढ़ाई की थी। 1 अगस्त 2015 को उन्होंने 46वें शिखर पर चढ़ाई सफलता पूर्वक की थी और प्रकृति के प्रति दोनों मित्रों के इस प्रेम को देखकर हर साल 1 अगस्त को राष्ट्रीय पर्वतारोहण दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

त्रियुंड ट्रेक

त्रियुंड ट्रेक हिमालय की धौलाधार पर्वत श्रृंखला में स्थित है. ये ट्रेक मेक्लोडगंज के पास से शुरू होता है और आपको घने जंगलों तक ले जाता है. समुद्र तल से 9350 फीट की ऊंचाई पर स्थित त्रिउंड ट्रेक उन लोगों के लिए अच्छा ऑप्शन है, जो पहली बाद ट्रेकिंग के लिए जा रहे हैं। इसे सबसे आसान ट्रेकों में से एक माना जाता है. त्रिउंड से धौलाधार पर्वत श्रृंखला और कांगड़ा घाटी के बेहद मनमोहक दृश्य दिखाई देते हैं।

नैना पीक

नैनीताल की सबसे ऊंची चोटी है नैना पीक. समुद्र तल से 8622 फीट की ऊंचाई पर स्थित नैना पीक को चीना पीक के नाम से भी जाना जाता है. स्थानीय लोगों का मानना है कि पहले कभी यहां चीना नाम के एक बाबा रहते थे, इस कारण इसको चीना पीक के नाम से भी जाना जाता है।

नैना पीक पर आज भी चीना बाबा का छोटा सा मंदिर बना है, इस जगह से आप पूरे नैनीताल शहर की सुंदरता का बर्ड आई व्यू ले सकते हैं. साथ ही बंदर पूंछ चोटी से नेपाल के अपि एवं नरी चोटी तक का विहंगम दृश्य भी देख सकते हैं।

गोइचा ला

अगर आप नार्थ ईस्ट में जाने की इच्छा रखते हैं तो आपको सिक्किम के गोइचा ला जरूर जाना चाहिए। इस जगह से हिमालय की चोटियां नजर आती हैं। गोइचा ला में आपको सिक्किम की संस्कृति और परंपरा को करीब से देखने का मौका मिलेगा।

यहां से आप कंचनजंगा पहाड़ियों पर होने वाले सूर्योदय को देख सकते हैं। समुद्र तल से 16,207 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस ट्रेक पर जाने और युकसोम तक वापस आने में व्यक्ति को कम से कम 7 से 8 दिनों का समय लगता है।

तांडियादामोल ट्रेक

अगर आप दक्षिण भारत में रहते हैं, तो आप आपको ट्रेकिंग का शौक पूरा करने के लिए कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं, कर्नाटक के अंदर पश्चिमी घाट में तांडियादामोल ट्रैक प्रसिद्ध टूरिस्ट स्पॉट होने के साथ-साथ ट्रैकिंग के लिए भी खासा मशहूर है।

यहां के घने जंगलों के साथ बहती नदियां और खूबसूरत विदेशी फूलों का नजारा किसी को भी अपनी तरफ खींचने के लिए काफी है, आप यहां घने जंगलों और खूबसूरत विदेशी फूलों के साथ बहती नदियों का नजारा देख सकते हैं।

हाम्टा पास

हाम्टा पास ट्रेकिंग के शौकीन लोगों के लिए पसंदीदा जगह है. ये ट्रेक कुल्लू घाटी के हाम्टा पास से शुरू होकर स्पीति घाटी पर खत्म होता है. हजारों ट्रेकर इस पर्यटन स्थल पर ट्रेकिंग के लिए पहुंचते हैं. अगर आप ट्रेकिंग पहली बार कर रहे हैं, तो ये ट्रेक आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है.