जानिए माता के इस रहस्मयी मंदिर के बारे में, यहां देवी पर क्यों चढ़ाया जाता ऐसा लेप

Maa Bahreshwari Devi

हिमाचल प्रदेश वैसे तो अपने आप में एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है। इसके अलावा हिमाचल के कांगड़ा जिले में स्थित माता का यह मंदिर एक खास चीज के लिए बेहद प्रसिद्ध है। माता के इस मंदिर को सिद्ध शक्तिपीठ ब्रजेश्वरी माता मंदिर के नाम से जाना जाता है।

जब भी हम माता के मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं तो कई तरह के प्रसाद का भोग लगाते है, लेकिन आपको यह जानकार काफी हैरान होगी कि यहां माता को लोग मक्खन चढ़ाते हैं।

माता यहां एक पिंड रूप में विराजमान है। यहां दर्शन करने के लिए आने वाले लोग माता को मक्खन का लेप लगाते हैं। फिर इसी मक्खन को निकालकर भक्तों को प्रसाद के रूप में बांटा जाता है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Addy Vlogs (@addy_travel_vlogger)

माना जाता है कि जो लोग इस मक्खन को खाते हैं,  उनके शरीर पर सभी त्वचा संबंधी रोग दूर हो जाते हैं। आइये जानते हैं इस मंदिर से जुडी कुछ ख़ास बाते

क्यों लगाते है मक्खन का लेप

माता को ऐसा लेप लगाने के पीछे एक कहानी बताई गई है, जब मां महिषासुर के साथ युद्ध कर रही थी, तो उन्हें काफी चोटें आई थी। माता घायल होकर, नगरकोट आई और घावों पर मक्खन लगाया।

ऐसा करने से माता ठीक हो गईं। तभी से यहां माता को मक्खन लगाने की प्रथा चलती आ रही है। कहते हैं कि ऐसा करने से माता को दर्द से आराम मिलता है।

मंदिर का निर्माण

यह भी कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने किया था। देवी ने उन्हें सपने में दर्शन दिए और आदेश दिया था कि अगर वे खुद को सुरक्षित रखना चाहते हैं, तो यहां एक मंदिर बनाएं।

पांडवों ने एक रात में ही मंदिर का निर्माण कर दिया था। लेकिन साल 1905 में यह मंदिर भीषण भूकंप आने से नष्ट हो गया था। लेकिन भक्तों की मदद से इस स्थान पर एक बार फिर नया मंदिर बनाया गया है।

मंदिर के परिसर में कई मंदिर

यहां आपको अठारह भुजाओं वाली दुर्गा, सूर्य मंदिर, यज्ञशाला, शीतला माता मंदिर, क्षेत्रपाल देवता, राम मंदिर, हनुमान मंदिर के दर्शन करने का मौका मिलेगा। यहां लाल रंग की भैरव मूर्ति वाला एक मंदिर भी है। कहा जाता है कि जब कोई विपदा आती है तो इस भैरव मूर्ति की आंखों से आंसू बहते हैं।