इस होटल में ना छत है ना दीवार फिर भी रुकने के लिए लोग कर रहे हैं हजारो रूपये खर्च

null-stern-hotel-switzerland

Unique Hotel In World : जब भी हम कही घूमने जाते हैं तो अक्सर एक आरामदायक होटल की तलाश में रहते हैं, की जब भी घूम कर हम रात में थककर जब घर या होटल में पहुंचे तो हमको आरामदायक रूम मिले और अच्छी नींद ले पाए।

किसी दूसरे शहर में पूरा दिन घूम कर हर कोई रात को चैन की नींद सोना चाहता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे होटल के बारे में बताने जा रहें हैं जिस्के बारे में सुनकर आपको काफी हैरानी होगी।

दुनिया में कुछ ऐसी होटल्स भी हैं जो अपनी अजीबो गरीब विशेषता के कारण दुनियाभर में प्रसिद्ध होने के साथ साथ चर्चा का विषय बने रहते है।

हम आपको जिस होटल के बारे में बताने जा रहें हैं इसके कमरे में न दीवार हो न छत हो और न ही बाथरूम हो, तो फिर आप क्या करेंगे? एक ऐसा ही होटल है जो आजकल चर्चा का केंद्र बना हुआ है। आइए जानते हैं, इस होटल से जुडी कुछ ख़ास बाते

ना छत है और ना दीवार

जी हां, आपको जानकार हैरानी होगी यह बिना छत और बिना दीवार वाला होटल लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। यहां आपको खुले आकाश के नीचे बिस्तर लगा मिलेगा इतना ही नहीं यहां पर बाथरूम की भी कोई व्यवस्था नहीं है।

इसके लिए 4-5 मिनट पैदल चलाकर कुछ दूर जाना पड़ता है। लेकिन इस अजीब होटल में आपको रूम सर्विस सुविधा ज़रूर मिल जायेगी इसके अलावा आपको यहां एकअनोखा टीवी भी मिलता है।

कहां है यह होटल

यह अनोखा होटल स्विट्जरलैंड में स्थित है। इस अद्भुत होटल का नाम नल स्टर्न (Null Stern) है। इस होटल को स्विट्जरलैंड के गोब्सी नामक पर्वत शिखर पर बनाया गया है।

पहाड़ की चोटी पर बने इस अनोखे होटल का फर्श टाइल्स से बना है और एक बेड खूबसूरत अंदाज में सजा हुआ है। इस होटल को कुछ दिन पहले ही सैलानियों के लिए खोला गया है।

होटल का किराया

इस होटल का किराया जानकर आपको हैरानी होगी। यहां एक रात ठहरने के लिए आपको लगभग 15 हज़ार रूपये के आसपास का किराया देना पड़ता है।

कुछ लोग इस होटल का किराया 20,000 बता रहें हैं। हैआरनि तो इस बात की है इस बिना दीवार और छत वाले होटल में ठहरने के लिए लगभग 9 हजार से भी अधिक लोग अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।

इस होटल के बारे में कहा जा रहा है कि इसे स्विट्जरलैंड के 2 आर्टिस्ट फ्रैंक और रिकलिन ने बनाया है और दिन पर दिन सैलानियों में कुछ अधिक ही डिमांड बढ़ रहा है।