Highest Waterfall of India: यहां है भारत का सबसे ऊँचा वॉटरफॉल, जानिए इससे जुडी दुखद कहानी के बारे में

Highest Waterfall of India

Highest Waterfall of India:  भारत में यूँ तो अनेको झरने हैं | लेकिन क्या आप जानते है यहां का सबसे ऊँचा झरना कौनसा है | भारत का सबसे ऊंचा वॉटरफॉल नोहकलिकाइ है, जो की मेघालय में स्थित है | इस वॉटरफॉल को देखने के लिए देशभर से लोग आते हैं |

नोहकलिकाइ वॉटरफॉल भारत का सबसे ऊँचा वॉटरफॉल है ये बात तो सब जानते हैं , लेकिन इससे जुडी कहानी के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं दरअसल इस झरने से एक दुखद कहानी जुडी है | आज हम आपको इस वॉटरफॉल से जुडी दुखद कहानी के बारे में आपको बताएँगे |

झरने से जुडी है यह कहानी

नोहकलिकाइ झरना देखने में बेहद ही खूबसूरत होने के साथ-साथ मन को शान्ति देने वाला भी है | इस झरने से एक दुखद कहानी जुडी हुई है | इस झरने नाम ‘का लिकाई’ नाम की महिला की  कहानी से जुडी है, ऐसा कहा का लिकाई नाम की महिला ने अपने पति की मौत के बाद एक दूसरे पुरुष से शादी की थी| उसने अपने बच्चे के लालन-पालन के लिए का लिकाई को कुली तक बनना पड़ा था |

अपनी बेटी के लालन- पालन में ज्यादा वक्त देने के कारण वह अपने पति पर ध्यान नहीं दे पाती थी| जिस वजह से उसके पति के मन में ईष्या का भाव जाग्रत हो गया, उसके पति के मन में अपनी ही बेटी के लिए घृणा आने लगी |  एक दिन जान का- लिकाई काम कर रही थी तो उसके पति ने अपनी ही बेटी को मार डाला|

इतना ही नहीं इसके बाद उसके पति ने अपनी बेटी के मांस को पकाकर अपनी पत्नी को परोस दिया | खाना खाने के बाद महिला अपनी बेटी को देखने के लिए बाहर गई तो उसको सुपारी की टोकरी में बेटी की उंगुलियां मिली, जिसे देखकर वह काफी दुखी हो गई और उसी पहाड़ की चोटी से कूद गई जहां झरना बहता है| इसी वजह से इस झरने का नाम का ‘नोह का लिकाई’ पड़ा|

 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Soumita Das (@soumita_apu)

दुनिया के ऊँचे झरनों में है शुमार

नोहकलिकाइ दुनिया के सबसे ऊँचे झरनों में से चौथे नंबर पर आता है | इस झरने की ऊंचाई  340 मीटर है |मेघालय के चेरापूंजी के में स्थित है| यह झरना देश का सबसे खूबसूरत और भव्य झरनों में से एक है| इस वाटरफॉल को देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक आते है|