दिल्ली में छिपी हुई यह ऐतिहासिक और खूबसूरत जगह है फोटो प्रेमियों की फेवरेट!

हमारे देश में पर्यटन की दृष्टि से इतना सब कुछ है कि इसकी वास्तविक और पूरी जानकारी तो हम में से किसी को भी नहीं होगी।

इसीलिए हर दिन सोशल मीडिया पर लोग नई-नई छिपी हुई खूबसूरत जगहों से लोगों को रूबरू करवाते रहते हैं।

भारत में ऐसी अनेकों ऐतिहासिक इमारतें भी मौजूद हैं जिनकी वास्तुकला तो हर किसी को सोचने को मजबूर कर देती है साथ ही इनकी खूबसूरती घूमने के शौक़ीन लोगों और फोटो प्रेमियों को भी दूर-दूर से इनकी ओर खींच लाती है।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे देश की राजधानी दिल्ली में भी कई ऐतिहासिक इमारतें है लेकिन आज हम दिल्ली की एक ऐसी ऐतिहासिक जगह के बारे में बताने वाले हैं जो आम तौर पर पर्यटकों से मिस हो जाती हैं लेकिन यह जगह फोटो प्रेमियों के साथ इतिहास प्रेमियों की भी फेवरेट जगहों में से एक है। चलिए बताते हैं आपको इस जगह के बारे में…

हुमायूँ का मक़बरा
हम बात कर रहे हैं यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल हुमायूँ के मक़बरे की जो कि भारत का पहला बगीचे वाला मक़बरा बताया जाता है। यह भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण विभाग द्वारा एक सरंक्षित ईमारत है जिसका निर्माण 16वीं शताब्दी में किया गया था।

लाल सैंड स्टोन से बने इस मक़बरे के चारों ओर एक सुन्दर बगीचा भी है जिसके साथ यह विशाल मक़बरा बेहद खूबसूरत दिखाई देता है। आपको बता दें कि हुमायूँ का मक़बरा परिसर में और भी कई मक़बरे हैं जिन सभी की वास्तुकला बेहद अद्भुत है।

ये सभी एक बहुत विशाल परिसर में मौजूद हैं जिसमें कई विशाल द्वार भी शामिल हैं। दिल्ली में मौजूद यह ऐतिहासिक ईमारत एक बार देखने में तो लाल ताजमहल के समान लगती है। चूँकि यह मक़बरा ताजमहल से लगभग एक सदी पहले बनाया गया था इसीलिए ऐसा भी बताया जाता है की ताजमहल को भी इसे देखकर बनाया गया था।

जैसा कि हमने बताया कि यह स्थान फोटो प्रेमियों के लिए भी एक शानदार जगह है। हुमायूँ के मक़बरे के चारों ओर सुन्दर बगीचा है जहाँ से भी इस ईमारत को बैकग्राउंड में रखकर शानदार फोटोग्राफी की जाती है।

सीढ़ियों के सहारे आप बगीचे से कुछ ऊंचाई पर बने इस मक़बरे के पहले चबूतरे पर पहुँच सकते हैं और वहां से आगे सीढ़ियां चढ़कर आप इसके दूसरे तल पर मौजूद प्लेटफार्म पर पहुँच सकते हैं। द्वितीय तल से बगीचे और इसके संपूर्ण परिसर का शानदार दृश्य दिखाई देता है।

टिकट, प्रवेश समय और नजदीकी मेट्रो स्टेशन
आपको बता दें की वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल हुमायूँ का मक़बरा देखने के लिए 40 रुपये प्रति व्यक्ति प्रवेश शुल्क है और 15 वर्ष तक कि आयु के बच्चों के लिए प्रवेश निशुल्क है।

इसमें आप सुबह 6 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक इसे देखने जा सकते हैं। अगर यहाँ से निकटतम मेट्रो स्टेशन की बात करें तो जे एल एन स्टेडियम, निज़ामुद्दीन और जोर बाग़ मेट्रो स्टेशन इसके सबसे निकटतम मेट्रो स्टेशन हैं।

तो अगर आप दिल्ली या फिर आस पास हैं और ढूंढ रहे हैं आम तौर पर दिल्ली के अन्य प्रसिद्द पर्यटन स्थलों जैसी भीड़ से दूर कोई शानदार देखने लायक और फोटो-परफेक्ट डेस्टिनेशन तो आपको यहाँ जरूर जाना चाहिए।

इससे जुडी जितनी भी जानकारी हमारे पास थी हमने इस लेख के माध्यम से आपसे साझा करने की कोशिश की है जो अगर आपको अच्छी लगी तो कृपया इस आर्टिकल को लाइक जरूर करें और ऐसी ही और जानकारियों के लिए आप हमसे जुड़े रहें।

साथ ही ऐसी अनेक जगहों के हमारे वीडियो देखने के लिए आप हमें हमारे इंस्टाग्राम अकाउंट @weandihana और यूट्यूब चैनल WE and IHANA पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Instagram अकाउंट: https://www.instagram.com/weandihana/

YouTube चैनल लिंक: https://youtube.com/c/WEandIHANA