जानिए माता के इस रहस्यमय मंदिर के बारे में जहाँ दिन में तीन बार बदलता है माता का रूप, आँखों देखि पर भी नहीं होगा यकीन

Dhari_Devi temple

Mysterious Temple India : भारत एक धार्मिक भूमि है, यहां पर अनेको मंदिर है हर मंदिर की अपनी एक ख़ास कहानी हैं। ऐसे में यहां पर रहस्यमय और प्राचीन मंदिरों की कोई कमी नहीं है। वैसे तो यहां हर मंदिर से कोई ना कोई कहानी जुडी है।

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो भारत के रहस्य्मयी मंदिरो में से एक है। यह मंदिर उत्तराखंड के श्रीनगर से करीब 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जहां हर दिन एक चमत्कार होता है। जिसे देखकर लोग हैरान हो जाते हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी इस मंदिर में मौजूद माता की मूर्ति दिन में तीन बार अपना रूप बदलती है। मूर्ति सुबह में एक कन्या की तरह दिखती है, फिर दोपहर में युवती और शाम को एक बूढ़ी महिला की तरह नजर आती है। यह नजारा वाकई हैरान कर देने वाला होता है।

इस मंदिर को धारी देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर झील के ठीक बीचों-बीच स्थित है। यह मंदिर देवी काली को समर्पित है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां मौजूद मां धारी उत्तराखंड के चारधाम की रक्षा करती हैं। धरी देवी को पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक देवी माना जाता है।

पौराणिक मान्यता 

एक पौराणिक कथा के अनुसार, कहा जाता है की एक बार भीषण बाढ़ से मंदिर बह गया था। जिसमे  मंडी में  मौजूद माता की मूर्ति भी बह गई और वह धारो गांव के पास एक चट्टान से टकराकर रुक गई।

कहा जाता है कि उस मूर्ति से एक ईश्वरीय आवाज निकली, जिसने गांव वालों को उस जगह पर मूर्ति स्थापित करने का निर्देश दिया। इसके बाद गांव वालों ने मिलकर वहां माता का मंदिर बना दिया। पुजारियों की मानें तो मंदिर में मां धारी की प्रतिमा द्वापर युग से ही स्थापित है।

https://www.instagram.com/p/CznqpsFrHE-/?utm_source=ig_web_copy_link&igshid=MzRlODBiNWFlZA==

कहते हैं कि मां धारी के मंदिर को साल 2013 में तोड़ दिया गया था और उनकी मूर्ति को उनके मूल स्थान से हटा दिया गया था, इसी वजह से उस साल उत्तराखंड में भयानक बाढ़ आई थी, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे।

मान्यता है कि धारा देवी की प्रतिमा को 16 जून 2013 की शाम को हटाया गया था। जिसके महज कुछ कुछ ही घंटों बाद राज्य में आपदा आई थी। बाद में उसी जगह पर फिर से मंदिर का निर्माण कराया गया। आप जब भी उत्तराखंड घूमने जाने का प्लान बनाये तो एक बार जरूर माता के दर्शन करके आये।